Sunday, October 18, 2009

कठुवाए हुए एहसास ~~

~~
चलो कठुवाए हुए एहसासों को भिगोते है
अंतस के जमीन पर एक दरख़्त बोते है

ज़रा उनसे पूछिए जिन्दगी का फलसफा
कान्धे पर जो खुद ही का ज़िस्म ढोते है

खरीदने-बेचने से परे है ये लोग फिर भी
देखिए किस तरह ये घोड़े बेचकर सोते हैं

सात पुश्तों की ख़बर लेने निकले हैं आप
इन्हें ये भी पता नहीं, ये किनके पोते हैं

दर्द का एहसास तो रोटियों में खो गया है
हँसी के मुखौटो के पीछे छुपकर ये रोते है
~~

37 comments:

दिगम्बर नासवा said...

कमाल के शेर हैं सब वर्मा जी .........
और इस शेर में आपने जीवन का फलसफा उडेल दिया है .........

ज़रा उनसे पूछिए जिन्दगी का फलसफा
कान्धे पर जो खुद ही का ज़िस्म ढोते है .....

vikram7 said...

दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें

आमीन said...

बेहतरीन... सुभान अल्लाह

Ekta said...

खरीदने-बेचने से परे है ये लोग फिर भी
देखिए किस तरह ये घोड़े बेचकर सोते हैं
यथार्थपरक रचना. सभी शेर शानदार

Manoj Bharti said...

कठुवाए हुए अहसास में आपने जिंदगी के फलसफे को जन्म देने की कोशिश की है;

वस्तुत: आज भी बहुतायत लोगों के लिए जिंदगी बहुत दूर है :
ज़रा उनसे पूछिए जिन्दगी का फलसफा
कान्धे पर जो खुद ही का ज़िस्म ढोते है

दर्द का एहसास तो रोटियों में खो गया है
हँसी के मुखौटो के पीछे छुपकर ये रोते है
~~

बहुत खूब शायरी !!! यथार्थ की जमीन पर ।

Prem Farrukhabadi said...

Verma ji,
roti boti ke baad aapne punah nishab kar diya. tippani karte anandanubhuti ho rahi hai.
dil se badhai!!

राज भाटिय़ा said...

सात पुश्तों की ख़बर लेने निकले हैं आप
इन्हें ये भी पता नहीं, ये किनके पोते हैं

दर्द का एहसास तो रोटियों में खो गया है
हँसी के मुखौटो के पीछे छुपकर ये रोते है
बहुत सुंदर शॆर लिखे आप ने धन्यवाद

विवेक said...

खरीदने-बेचने से परे हैं ये लोग फिर भी
देखिए किस तरह ये घोड़े बेचकर सोते हैं

यह शे'र तो बहुत ही खूबसूरत है। इसके अर्थ बहुत गहरे उतरते हैं...

वन्दना said...

चलो कठुवाए हुए एहसासों को भिगोते है
अंतस के जमीन पर एक दरख़्त बोते है

ज़रा उनसे पूछिए जिन्दगी का फलसफा
कान्धे पर जो खुद ही का ज़िस्म ढोते है

ek se badhkar ek sher..........aur yatharthparak.........shandaar.

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

सही कहा है जी।
सुन्दर पोस्ट है।

जिन्दगी का गीत रोटी में छिपा है।
प्यार और मनमीत रोटी में छिपा है।।

पोस्ट के साथ-साथ गोवर्धन-पूजा
और भइया-दूज की शुभकामनाएँ!

महफूज़ अली said...

सात पुश्तों की ख़बर लेने निकले हैं आप
इन्हें ये भी पता नहीं, ये किनके पोते हैं....

wah! is pankti ne man moh liya.......


bahut hi oomda she'er hai sab.....

dil ko chhoo gayi ............

समयचक्र - महेंद्र मिश्र said...

भाई बहुत सुन्दर रचना .... बधाई. दीपावली की हार्दिक शुभकामना के साथ ....

Udan Tashtari said...

एक से एक उम्दा शेर उठाये हैं, वाह!

गिरीश बिल्लोरे 'मुकुल' said...

चलो कठुवाए हुए एहसासों को भिगोते है
अंतस के जमीन पर एक दरख़्त बोते है
nice

विनोद कुमार पांडेय said...

बड़े ही विचारणीय बात संजोए है आपने इस रचना में..पढ़ कर बहुत अच्छा लगा..बधाई!!

Babli said...

वाह वाह क्या बात है! उम्दा शेर लिखा है आपने! सब एक से बढ़कर एक है!
आपको और आपके परिवार को दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें!

शरद कोकास said...

अच्छे शेर कहे आपने ।

खुशदीप सहगल said...

ज़रा उनसे पूछिए ज़िंदगी का फ़लसफ़ा
कांधे पर जो खुद का ही जिस्म ढोते हैं...

मैं किसे कहूं मेरे साथ चल
यहां हर सर पर सलीब है...
कोई दोस्त है न रकीब है
तेरा शहर कितना अज़ीब है...

जय हिंद...

पी.सी.गोदियाल said...

खरीदने-बेचने से परे है ये लोग फिर भी
देखिए किस तरह ये घोड़े बेचकर सोते हैं !!

बहुत सुन्दर वर्मा साहब !

Nirmla Kapila said...

बहुत बडिया भाईदूज की शुभकामनायें

यादों का इंद्रजाल... said...

ज़रा उनसे पूछिए जिन्दगी का फलसफा
कान्धे पर जो खुद ही का ज़िस्म ढोते है..

सार्थक शेर कहें है आपने.

- सुलभ सतरंगी

Poonam said...

पहली बार आपके ब्लॉग पर आना हुआ.बहुत सुन्दर जज्बात और शेर .बधाई !

शोभना चौरे said...

bhaut sarthk sher
abhar

अमिताभ श्रीवास्तव said...

waah, varmaji..bahut khoob likha he// kamaal he aapake she'ro me/
ज़रा उनसे पूछिए जिन्दगी का फलसफा
कान्धे पर जो खुद ही का ज़िस्म ढोते है

-aour yah to bahut khoob likhaa he ki-
सात पुश्तों की ख़बर लेने निकले हैं आप
इन्हें ये भी पता नहीं, ये किनके पोते हैं

waah

sada said...

ज़रा उनसे पूछिए जिन्दगी का फलसफा
कान्धे पर जो खुद ही का ज़िस्म ढोते है

बहुत ही सुन्‍दर प्रस्‍तुति ।

डॉ टी एस दराल said...

करीब से देखी जिंदगी का अहसास शब्दों में पिरो दिया. बहुत सुन्दर.

रवि कुमार, रावतभाटा said...

खरीदने-बेचने से परे हैं ये लोग फिर भी
देखिए किस तरह ये घोड़े बेचकर सोते हैं

दर्द का एहसास तो रोटियों में खो गया है
हँसी के मुखौटो के पीछे छुपकर ये रोते है

इन अश्आर ने जान ले ली...
एक बेहतरीन ग़ज़ल...

shyam1950 said...

हिंदी में एक नायब ग़ज़ल

Nagarjuna said...

Behrateen shilp jode hain aapne.Marhabaa...daad deta hoon janaab...

Dipak 'Mashal' said...

bahut hi sundar sher hain tareef ke pare,
pahli baar aapke blog par aaya lekin lagta hai aapka lekhan aur ek jaisi ruchiyan bar bar yahan aane pe vivash karengi.

Dr. Chandra Kumar Jain said...

सचमुच अंतस की ज़मीन पर
संवेदना के बीज डाल दिए आपने.
सुन्दर....गहरी अभिव्यति.
आपको दीपावली की मंगल कामनाएँ.
==============================
डॉ.चन्द्रकुमार जैन

अर्शिया said...

कठुवाए हुए एहसास, बडा सुंदर बिम्ब चुना है आपने। बधाई।
( Treasurer-S. T. )

shikha varshney said...

सात पुश्तों की ख़बर लेने निकले हैं आप
इन्हें ये भी पता नहीं, ये किनके पोते हैं
wah wah bahut khoob kaha hai .

shama said...

Waah ! Kya khayal hai! "Antas kee zameen par ....."!

Janam din kee badhayee ke liye bahut shukr guzaar hun!

http://shamasansmaran.blogspot.com

htpp://aajtakyahantak-thyalonelypath.blogspot.com

http://baagwaanee-thelightbyalonelypath.blogspot.com

Mrs. Asha Joglekar said...

बहुत खूब ।

Sheena said...

ज़रा उनसे पूछिए जिन्दगी का फलसफा
कान्धे पर जो खुद ही का ज़िस्म ढोते है

zindagi ki sachhayi bahut hi khoobsurat shabdo mein bayaan ki hai

-Sheena

बी एस पाबला said...

सुन्दर रचना

इस टिप्पणी के माध्यम से, सहर्ष यह सूचना दी जा रही है कि आपके ब्लॉग को प्रिंट मीडिया में स्थान दिया गया है।

अधिक जानकारी के लिए आप इस लिंक पर जा सकते हैं।

बधाई।

बी एस पाबला